Thursday, 22 March 2012

मयख़ाने में माउंट मिहारा:चंद सफ़े ओशिमा डायरी से-3

हिन्दुस्तानी हिसाब से देखें तो महज़ 2507 फ़ुट की पहाड़ी है लेकिन हिल ना कहला कर माउंट का दर्जा रखती है । दो वजहें हैं- एक, इस टापू पर सबसे ऊँची पहाड़ी यही है सो पहाड़ हुआ और दो, इसमें विनाश की ताक़त है सो सम्मान दिया जाता है इसलिए पहाड़ी नहीं पहाड़ है । रास्ते में जगह-जगह शरण स्थल बने हैं ताकि फट पड़ने की सूरत में आप वहाँ जान बचा लें । ऊपर पहुँच कर बाक़ायदा क्रेटर तक जाया जा सकता है । धुँआ कई जगह से उठता नज़र आता है । सवेरे समुद्र तट पर जलने की जो गन्ध आ रही थी उसका राज़ अब समझ में आता है । यूँ तो सारे टापू की मिट्टी लावे की राख है सो काली है और समुद्र तट की चट्टानें तक जमा हुआ लावा ही हैं लेकिन माउंट मिहारा के आस-पास मीलों तक बिखरे गाढ़े, जमे हुए काले लावे का एक अलग ही मंज़र है ।

क्रेटर तक जाने से रोकने के लिए बाड़ लगी है क्योंकि इसके धधकते लावे में कूदकर एक ज़माने में आत्महत्याएँ भी बहुत हुई हैं । 1936 में 600 से ज़्यादा लोगों ने इसमें कूद कर जानें दीं । ऐसा कोई इरादा नहीं रखता लेकिन फिर भी बाड़ पार करके क्रेटर में झाँकता हूँ । भभक महसूस की जा सकती है । पाँव तले लावा के जमे हुए पत्थरों की रोड़ी है और हवा बेहद तेज़ है इसलिए जल्दी ही पीछे हटता हूँ । याद आता है कि 1985 में आई मशहूर फ़िल्म गोडज़िला में विशालकाय दैत्य को इसी क्रेटर में क़ैद कर दिया गया था क्योंकि उसे मारना मुमकिन ना था । मैं कोई अकेला नहीं हूँ और भी पर्यटक हैं जो क़ुदरत के इस अजूबे को देखने चले आए हैं । क्रेटर से कोई 500 गज पर एक मंदिर है । बताते हैं सन् 86 के भीषण विस्फोटों के दौरान भी इस छोटे से मंदिर का कुछ नहीं बिगड़ा जबकि ठीक यहीं से मीलों-मील आग बरसती रही । ये एक ऐसा चमत्कार है जो बताता है कि हमसे ऊपर कोई है जो इस खेल को जैसे चाहे चलाता है । बहरहाल उस ताक़त को मैं शिव का तांडवकारी स्वरूप जानकर वहाँ शीश नवाता हूँ और लौट आता हूँ । ड्राइवर साब इंतज़ार कर रहे हैं कि अब मुझे और भी हैरतअंगेज़ नज़ारों की तरफ़ ले जाएँ ।


जब आबादी शुरू होती है तो पहला ही मकान इसी लावे से बना नज़र आता है । नीचे दो विडियो हैं --पहला मिहारा के शिखर पर लिया गया और दूसरा मिहारा की घाटी में ---

6 comments:

  1. Replies
    1. सोनल जी धन्यवाद आपकी सराहना के लिए । मयख़ाने में आपका आना ख़ुशआमदीद ।

      Delete
    2. aapke is kaam ko salute sir

      Delete
    3. सागर भाई शुक्रिया ये तो काम से जान छुड़ाने का बहाना था उसपे आपकी तारीफ़ मिली जाती है और क्या चाहिए ।

      Delete
  2. जी क़ुदरत के रंग निराले अनुराग भाई ।

    ReplyDelete