Tuesday, 31 August 2010

एक अपील ब्लौग जगत के रईसों से ....

हालांकि मैं आप में से न सही और शायद ये सलाह भी आपको गैर ज़रूरी लगे मगर यकीन कीजिये मेरे दोस्तो में कई रईस शुमार हैं और मैं आपकी चिंता और फ़िक्रो-ख्याल को बेहतर समझता हूँ खैनी - ठोकू समाज वादियों से ! सो इसे एक दोस्ताना अपील समझिये . मैं जानता हूँ कि कई लोग जिन्हें ऊपर वाले के फज़ल से ऐश-इशरत और दौलत हासिल है वो अक्सर मजलूमों और ज़रुरत मंदों के लिए वाकई कुछ करना चाहते हैं मगर कई दफा ये सोच कर मुट्ठी भींच लेते हैं कि ये सही जगह और सही ज़रुरत मंदों तक पहुंचेगा भी या नहीं या मदद पाने वाले इसके हकदार हैं भी या नहीं . बहुत से ऐसे होते हैं जो दौलत के सहज -स्वाभाविक 'गिल्ट' से महज़ निजात भर पाने को उसे गलत जगहों पे दे देते हैं . दोस्तो, लद्दाखी शहर लेह इन दिनों वाकई मुसीबत में है और आपकी मदद का सच्चा हकदार है . यकीन जानिये इतने सीधे-सच्चे , ईमानदार और सबसे बढ़कर वतन-परस्त आपको इस जम्बू-द्वीप , भरतखंड में कहीं और न मिलेंगे . मैंने उन्हें करीब से देखा है और भारत के दूसरे, कई लोगों की तरह हिंदी और हिंदुस्तानियत के तईं उनमें कोई खलिश मैंने कभी महसूस नहीं की . वहां के बौद्ध हों या शिया दोनों शराफत से बसर करते हैं . अपराध वहां नगण्य है और खुद को औरतें महफूज़ महसूस करती हैं . जेलों में कभी-कभार बस ऐसे लोग बंद होते हैं जैसे कोकीन के साथ पकड़ा गया कोई यूरोपियन पर्वतारोही या मामूली चोरी -चकारी में मुलव्विस कोई ग़रीब नेपाली कारिन्दा वर्ना जेलें खाली खाली पड़ी रहती हैं . शुरू में लग रहा था कि नुक्सान की भर पायी हो जाएगी मगर अब हाल ये है कि प्रधान मंत्री राहत कोष के लिए अपील छापनी पड़ी है. दोस्तो ,अगर ऐसा हादसा कश्मीर घाटी में होता तो ५७ इस्लामी मुल्कों से इमदाद के खज़ाने खुल गए होते मगर इन मुसीबत के मारों का दर्द समझने वाले कम हैं फोटो खिंचवाने वाले ज़्यादा . अक्टूबर जाते-जाते ये इलाका बेतरह ठण्ड की चपेट में आ जायेगा सो जो कुछ बन पड़े पहले ही करना चाहिए . सो जैसे बन पड़े ,जितना बन पड़े आप इन मुसीबतज़दा , खुद्दार और मेहनत कश लोगो के लिए ज़रूर कीजिये ईश्वर उर्फ़ अल्लाह आपको और बख्शेगा ---आमीन !

16 comments:

  1. मुनीश जी अवश्य ही इनके लिए कुछ किया जाना चाहिए।
    आपकी अपील का अवश्य ही फ़र्क पड़ेगा।

    ReplyDelete
  2. मैं रईश नहीं हूँ इसलिये अपील में शामिल हूँ।

    ReplyDelete
  3. रईसी से दूर की भी रिश्तेदारी नहीं है मगर मदद क मार्ग भी सुझायें तो बेहतर कि कैसे मददगार साबित हो सकते हैं.

    ReplyDelete
  4. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  5. Sameer bhai u may see this address for relief related requirements--
    http://www.charitiesinindia.org/2010/08/cec-relief-fund-ladakh-autonomous-hill.html

    ReplyDelete
  6. मुझ ग़रीब से जो बन सकता था वह मैंने भेज दिया है बाक़ी लोगों के सूचनार्थ डीटेल्स ये रहीं:

    Account Name: CEC Relief Fund

    Account Number: 0069010200000128

    Bank Name: Jammu and Kashmir Bank Limited

    Branch Name: Main Bazaar, Leh

    IFSC Code: JAKAOPRIEST

    The cheques should be made to the “CEC Relief Fund A/c No 0069010200000128” payable in Leh. The cheques collected should be mailed to the address mentioned below.

    If you are transferring funds from outside India, let me know so I can provide additional details required. Please let me know if you need any further information/clarification in this regard.

    Coordination Cell
    Office of the Chief Executive Councillor
    Ladakh Autonomous Hill Development Council
    Leh, Ladakh 194101 INDIA

    ReplyDelete
  7. शुक्रिया अशोक भाई आपने लद्दाखियों का ख्याल और मेरा दिल रखा . . पारुल और समीर जी ने भी सरोकार जताया है . बस 'मयखाना' खोलना आज सार्थक हो गया....ऊपर वाला आपको बनाये रखे !

    ReplyDelete
  8. मैं ललित जी और प्रितीश जी का भी दिल की गहराइयों से शुकिया अदा करता हूँ और उम्मीद करता हूँ कि और ब्लौगर बन्धु भी इस नेक काज में अपना योगदान देंगे .

    ReplyDelete
  9. करता हूं कुछ मैं भी।

    ReplyDelete
  10. Munish Ji, leh ki is Museebat laane wali durghatana ne sabako chinta jatane ka mauka diya. Pradhanmantri se lekar aam aadami tak. Lekin sach kahoon sabhi ke chinta jatane ke tareeke se main utna prabhavit nahin huwa jitana ke aapki is lekhani se. Kyonki aapne isame teen aise mahatvapoorna bindu diye hain jo behad gambheer hain...
    1. Yahan ke nivasiyon jaisa vatanparast aur imaandaar poore bharat me kahin nahin.
    2. October ke baad sardi poore zoron per ho jaati hai.
    3. Agar ye hadsa J&K me hota to 57 islami desh apane khajane khol dete.
    Aur isame bhi sabase badi baat hai ki aapki is soch ke peeche koi Political profit lakshya me nahin hai. ye sach hai ki main apane star se kuch nahin kar sakata lekhin dhankuber logon ke liye kuch karane ko prerit karane wale aap jaison ko hridaya se salam karata hoon. ----

    ReplyDelete
  11. @DR. ANURAG, BHAI RADHA RAMAN,SIDHESHAR JI EVAM DEVENDRA--
    I THANK YOU ALL FROM CORE OF MY HEART GENTLEMEN !

    ReplyDelete
  12. raies to mai bi nai hu per thora jo kar sakti thi wo to maine bi kiya...

    ReplyDelete
  13. great pic..although I know hindi..eng seems more easier..so am commenting in english

    ReplyDelete