Friday, 11 June 2010

हिंदी सिनेमा के अमर मोटर साइकिल गीत -3

स्कूटर होता है , मोटर साइकिल होती है मग़र फिर फिर भी नायिकाएं इसी की सवारी पसंद करती आई हैं ऐसी कई गुमनाम ' ना-मालूम कहानियां जिनका ख़ुद ख़ाकसार नायक और चश्मदीद रहा है यही बतलाती हैं कि बाइक जो है बड़ी जोखिम की चीज़ है ! मतलब ,बीच रस्ते पंचर हो जाए तो स्कूटर जैसी स्टेपनी इसमें नहीं है और आम तौर पे १०० -१२५ cc वाली हिन्दुस्तानी बाइक के मुकाबले १५० cc का स्कूटर ज़्यादा ताक़तवर होता है . बाइक -प्रेम सच में बेवकूफ़ी और खतरों का बायस है ! मग़र , नायिका जो है वो तो खतरों की खिलाड़ी है ,उसे स्कूटर वाले से शादी भले मंज़ूर हो मग़र मोहब्बत....... क़तई नहीं !

4 comments:

  1. Could we have a couple of more CYCLE-GEETS please ? Minus the MOTOR i.e.

    I'm waiting for them .. pls.

    ReplyDelete
  2. इस सुंदर पोस्ट के लिए साधुवाद

    ReplyDelete
  3. मग़र , नायिका जो है वो तो खतरों की खिलाड़ी है ,उसे स्कूटर वाले से शादी भले मंज़ूर हो मग़र मोहब्बत....... क़तई नहीं !

    :-)
    सही है मुनीश भाई, यह बात तो तब भी लागू होती थी और आज भी है. अच्छी पोस्ट.

    ReplyDelete
  4. मुनीश जी,
    यह मेरा पसन्दीदा गीत है। लेकिन आज तक मैने इसकी वीडियो नहीं देखी थी। यह एक ऐसा गीत है जिसे अगर आंख बन्द करके सुना जाये तो मन से हारे हुए आदमी को एक सहारा मिलता है।

    ReplyDelete