Sunday, 6 November 2016

दूषित कविता

चिड़ी के ग़ुलाम
हुकुम के अट्ठे
और
उल्लू के पट्ठे
कह रहे हैं कि:
आपात्काल चल रहा है !
राष्ट्रचीते ,
कचिया पपीते
और
बारूद के पलीते
कह रहे हैं कि:
मधुमास चल रहा है !
मैं बोल पा रहा हूँ कि:
बस श्वास चल रहा है !
ये प्रदूषण मुझको खल रहा है ।
ये हरामी शहर दरअस्ल जल रहा है

# प्रदूषित कविता

6 comments:

  1. आज सलिल वर्मा जी ले कर आयें हैं ब्लॉग बुलेटिन की १५०० वीं पोस्ट ... तो पढ़ना न भूलें ...

    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "सीने में जलन आँखों में तूफ़ान सा क्यूँ है - १५०० वीं ब्लॉग-बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. Nice article, good information and write about more articles about it.
    Keep it up
    blogger tutorial in tamil

    ReplyDelete